Skip to main content

The Essence of Fasting रोज़े का महत्व

रमजान के पवित्र महीने में रोज़े रखना धार्मिक काम है जो आत्मा को शुद्ध करता है और इंसान को खुदा के साथ एक स्थायी सम्बंध के लिए तैयार करता है जहां अल्लाह का खौफ़ हावी रहता है। अगर ईमानदारी और विश्वास के साथ रोज़ा रखा जाये तो रोज़ा सबसे बढ़कर एक अच्छा इंसान बनने में हमारी मदद करता है। इसमें आश्चर्य की कोई बात नहीं है कि सभी धर्मों ने इस तरह या दूसरे तरीके से रोज़ा रखने का हुक्म दिया है। ये आमतौर पर जाना जाता है कि रोज़ा इस्लाम के पांच स्तम्भों में से एक है (अन्य चार ईमान, नमाज़, हज और ज़कात हैं)।

रमज़ान का पवित्र महीना इबादत का महीना है, सदक़े (दान) का महीना है, परहेज़गारी (धर्मपरायणता) का महीना है, कुरान का महीना है और सबसे बढ़कर ये आत्मावलोकन और खुद के सुधार का महीना है। यही वो महीना है कि जिसमें मुसलमान सभी अच्छे काम, हर ज़रिए, हर तरीके, हर जगह और उन सभी लोगों के साथ करने की कोशिश करते हैं जिनके साथ वो कर सकते हैं। तमाम नेकियाँ करो' के मक़सद के साथ आज सभी मुसलमानों को एक अच्छा इंसान बनने के लिए सामूहिक प्रयास करने, नैतिकता में बेहतरी को हासिल करने, अपने सामान्य व्यवहार में सुधार करने, असाधारण शक्ति वाली नैतिक भावना पैदा करने और एक ऐसा विश्वास हासिल करना ज़रूरी है कि जिससे वो अच्छाई और बुराई में भेद कर सकें, हालांकि सच्चाई हमेशा जल्दी हासिल नहीं होती है। ये इस समय और इस पवित्र महीने की वास्तविक ज़रूरत है।

इस्लाम के बुनियादी नैतिक मूल्य ये हैं: करुणा, दया और शांति। हमारे दिल व दिमाग़ में अल्लाह के खौफ के साथ अपनी धार्मिकता के लिए जो कि रोज़े से पैदा होती है और इस्लाम के नैतिक मूल्यों से लैस मुसलमान दुनिया को साधने के लिए चमत्कार कर सकते हैं और अपने खोए हुए गौरव को हासिल कर सकते हैं। सबसे पहले जो बात दिमाग में आती है, करुणा है और किस तरह ये हमें अच्छा इंसान बना सकती है। हमदर्दी का उसूल सभी धर्मों, नैतिकताओं और आध्यात्मिक परंपराओं का प्रमुख हिस्सा होता है, जो कि हम दूसरों से ऐसे बर्ताव की अपेक्षा करते हैं जैसा कि हम अपने लिए दूसरों से चाहते हैं। सहानुभूति हमें हमारे साथी प्राणियों के दुखों का अंत करने के लिए अथक संघर्ष करने की प्रेरणा देता है। हमे अपनी दुनिया के केंद्र से खुद को उतारने और उस जगह दूसरों को स्थापित करने की प्रेरणा देता है। और सभी इंसानों के आदर और सम्मान की प्रेरणा देता है। किसी अपवाद के बिना सभी के साथ पूर्ण न्याय, समानता और सम्मान के साथ पेश आने की प्रेरणा देता है। सार्वजनिक और निजी दोनों जीवन में निरंतर दूसरों को तकलीफ पहुँचाने से बचना ज़रूरी है। द्वेष करना, अंध देश-भक्ति या व्यक्तिगत लाभ के लिए हिंसक काम करना और किसी को उसके मौलिक अधिकारों से वंचित करना और किसी को बदनाम करके नफ़रत भड़काना, यहां तक कि दुश्मन के साथ भी ऐसा बर्ताव करना- हमारी साझा मानवता से इन्कार है।

इस्लाम में प्रेम की परंपरा के बारे में अपना अध्ययन शुरू करने के लिए सबसे अच्छी जगह निश्चित रूप से कुरान और पैगम्बर मोहम्मद सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम का जीवन है। मुसलमानों को दुनिया के सभी अजूबों में खुदा के कृपालू होने के लक्षण (आयतें) पर ग़ौर करना ज़रूरी है। क्योंकि अल्लाह की उदारता की वजह से व्यवस्था और उर्वरता है, जिसमें कि अराजकता और बंजरपन हो सकता था। जैसे उन्होंने खुदा के दया भाव की सराहना करना सीखा है। मुसलमानों के अंदर भी इसकी नकल करने का रूझान पैदा होगा। वो भी खुदा के पैदा किये सभी प्राणियों के साथ मोहब्बत से पेश आना चाहेंगे और मेहरबान और जिम्मेदारी के गुण को चरमोत्कर्ष पर ले जाते हुए, खासकर समाज के कमज़ोर और वंचित वर्ग के लिए स्नेह और नेकी के लबादे में खुद को ढालना चाहेंगे।

कुरान की तिलावत अल्लाह, रहमान और रहीम से एक दुआ के साथ शुरू होती है। कुरान का मूल संदेश व्यावहारिक दयालुता और सामाजिक न्याय के लिए एक निमंत्रण है। दौलत जमा करना गलत है और निष्पक्ष तरीके से अपने धन को खर्च करना अच्छा है, और एक ऐसे सभ्य समाज के निर्माण के लिए संघर्ष करना अच्छा है, जहां सबका सम्मान किया जाए। हुज़ूर सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम के मिशन की शुरुआत से ही गरीबों को ज़कात देने को मुसलमानों की ज़िंदगी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाया गया है। ईमान (विश्वास) सिर्फ खुदा के बारे में सिद्धांतों के संकलन को तार्किक रूप से स्वीकार करना नहीं है। कुरान की प्रारंभिक सूरतों में बार बार इस बात पर ज़ोर दिया गया है कि मोमिन मर्द या औरत वो हैं जिन्होंने "इंसाफ के आमाल (कार्यों)" (सालेहात) अंजाम दिए। सभी मुसलमान इसे जानते हैं लेकिन हमें इन बुनियादी हक़ीक़तों से खुद को आगाह करने के लिए एक सचेत प्रयास की ज़रूरत है। कुरान खुद ही एक याद दिलाने वाली किताब है। ये बार बार हमें इस बात को याद दिलाती है कि इंसान मूल रूप से बुरा नहीं है बल्कि वो सिर्फ भूल का शिकार है। एक बार उनके धार्मिक, नैतिक और सामाजिक जीवन के मूल भाग में हमदर्दी बहाल कर दी गई तो वो सभी विवादैस्पद मुद्दे जो ईमान वालों के बीच विवाद पैदा करते हैं, उन्हें उचित परिपेक्ष्य में देखा जा सकता है।

ख्वाजा मुहम्मद जुबैर एक स्वतंत्र स्तंभकार हैं। ये लेख खलीज टाइम्स से लिया गया है।

स्रोत: http://www.nation.com.pk/pakistan-news-newspaper-daily-english-online/columns/21-Jul-2012/the-essence-of-fasting

URL for English article:

http://newageislam.com/islam-and-spiritualism/by-khwaja-mohammad-zubair/the-essence-of-fasting!/d/8040

URL for Urdu article:

http://www.newageislam.com/urdu-section/the-essence-of-fasting--روزے-کی-معنویت/d/12543

URL for this article:

http://www.newageislam.com/hindi-section/khwaja-mohammad-zubair,-tr-new-age-islam/the-essence-of-fasting---रोज़े-का-महत्व/d/12589

Comments

DR. ANWER JAMAL said…
कुरान का मूल संदेश व्यावहारिक दयालुता और सामाजिक न्याय के लिए एक निमंत्रण है। दौलत जमा करना गलत है और निष्पक्ष तरीके से अपने धन को खर्च करना अच्छा है, और एक ऐसे सभ्य समाज के निर्माण के लिए संघर्ष करना अच्छा है, जहां सबका सम्मान किया जाए। हुज़ूर सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम के मिशन की शुरुआत से ही गरीबों को ज़कात देने को मुसलमानों की ज़िंदगी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाया गया है।
---
Jazakallah.

Popular posts from this blog

बवासीर

दोस्तों बवासीर ऐसी बीमारी है जो किसी भी आदमी का रात दिन का चैन सुकून छीन लेता है.....देसी दवाइयों से इसका कामयाब इलाज संभव है यदि परहेज़ ध्यान रखा जाए
............... पाइल्स (बवासीर, अर्श): वात, पित, कफ़ ये तीनो दोष त्वचा, मांस, मेदा को दूषित करके गुदा के अंदर और बाहरी स्थानों मैं मांस के अंकुर (मस्से/फफोले) तैयार करते हैं. इन्ही मांस के अंकुरों को बवासीर या अर्श कहते हैं ! ये मांस के अंकुर गुदामार्ग का अवरोध करते हैं और मलत्याग के समय शत्रु की भांति पीड़ा करते हैं ! इसलिए इनको अर्श भी कहा जाता है. ( चरक) बवासीर का सबसे उत्तम उपचार आयुर्वेद के द्वारा ही किया जा सकता है ! आयुर्वेदिक उपचार एक बहुत ही सुलझा और बिना साइड इफ़ेक्ट का उपचार है ! पाइल्स को पूरी तरह से आयुर्वेदिक तरीके से ही ठीक किया जा सकता है| बाहरी लक्षणों के कारण भेद: बवासीर 2 प्रकार (kind of piles) की होती हैं। एक भीतरी(खूनी) बवासीर तथा दूसरी (बादी) बाहरी बवासीर। भीतरी / ख़ूनी बवासीर / आन्तरिक / रक्‍त स्रावी अर्श / रक्तार्श ख़ूनी बवासीर में मलाशय की आकुंचक पेशी के अन्दर अर्श होता है तो वह म्युकस मेम्ब्रेन (Mucous Membran…

क्या आप सूअर की चर्बी खा रहे हैं ?

बी. एस. पाबला  जी का लेख देख कर मन में यही विचार आया, क्योंकि हम तो लेज़ खाते नहीं हैं और हो सकता है कि दूसरे प्रोडक्ट्स में E 631 हम भी खा रहे हों जो कि हक़ीक़त में सूअर की चर्बी का कोड है . यूरोप और अमेरिका में जा बसे हिन्दू मुसलमान कहाँ तक बच पाते होंगे सूअर की चर्बी से . मुस्लिम देशों में इसे गाय या भेड़ की चर्बी कह प्रचारित किया गया लेकिन इसके हलाल न होने से असंतोष थमा नहीं और इसे प्रतिबंधित कर दिया गया। बहुराष्ट्रीय कंपनियों की नींदउड़गई। आखिर उनका 75 प्रतिशत कमाई मारी जा रही थी इन बातों से। हार कर एक राह निकाली गई। अबगुप्तसंकेतोवालीभाषा का उपयोग करने की सोची गई जिसे केवल संबंधित विभाग ही जानें कि यह क्या है! आम उपभोक्ता अनजान रह सब हजम करता रहे। तब जनमहुआ E कोडका
तब से यह E631 पदार्थकईचीजोंमेंउपयोग किया जाने लगा जिसमे मुख्य हैं टूथपेस्ट, शेविंग क्रीम, च्युंग गम, चॉकलेट, मिठाई, बिस्कुट, कोर्न फ्लैक्स, टॉफी, डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ आदि। सूची में और भी नाम हो सकते हैं। हाँ, कुछ मल्टी-विटामिनकी गोलियों में भी यह पदार्थ होता है। शिशुयों, किशोरों सहित अस्थमा और गठिया के रोगियों को

शुक्राणुहीनता NIL SPERM

शुक्राणु की कमी के कारण और निवारण आदमी दिखनें में तन्दरुस्त हो ताकतवर हो लेकिन उसके शुक्राणु अगर दुर्बल हैं तो वो गर्भ धारण नहीं करवा सकते - तो जानें वीर्य में स्वस्थ शुक्राणुओं को बढ़ाने के चंद तरीके - पुरुष के वीर्य में शुक्राणु होते हैं ये शुक्राणु स्त्री के डिम्बाणु को निषेचित कर गर्भ धारण के लिये जिम्मेदार होते हैं - वीर्य में इन शुक्राणुओं की तादाद कम होने को शुक्राणु अल्पता की स्थिति कहा जाता है। शुक्राणु की कमी को ओलिगोस्पर्मिया कहते हैं लेकिन अगर वीर्य में शुक्राणुओं की मौजूदगी ही नहीं है तो इसे एज़ूस्पर्मिया संज्ञा दी जाती है ऐसे पुरुष संतान पैदा करने योग्य नहीं होते हैं। वीर्य में स्वस्थ शुक्राणुओं की तादाद कम होने के निम्न कारण हो सकते हैं-- * वीर्य का दूषित होना * अंडकोष पर गरमी के कारण वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या कम हो जाती है। ज्यादा तंग अन्डर वियर पहिनने,गरम पानी से स्नान करने, बहुत देर तक गरम पानी के टब में बैठने और मोटापा होने से शुक्राणु अल्पता हो जाती है। * हस्तमैथुन से बार बार वीर्य स्खलित करना * थौडी अवधि में कई बार स्त्री समागम करना * अधिक शारीरिक और मानसिक …