Saturday, April 14, 2012

ब्लॉगिंग का विषय पढ़कर मज़ा आ जाए तो बस आप बन गए बड़ा ब्लॉगर

यौन शिक्षा देता है बड़ा ब्लॉगर 

ऐसा लगता है की इस देश में जवानों से ज़्यादा बूढों  को यौन शिक्षा देने की ज्यादा जरुरत है.
इंसान ग़लतियों से भी सीखता है और सीखकर भी ग़लती करता है।
यौन विषय भी एक ऐसा ही विषय है कि इसमें ग़लतियां होने की और पांव फिसलने की संभावना बहुत है यानि कि डगर पनघट की कठिन बहुत है। कठिन होने के बावजूद लोग न सिर्फ़ इस पर चलते हैं बल्कि सरपट दौड़ते हैं।
इसी भागदौड़ में लोग बाग ठोकर खाकर गिर रहे हैं . 
एक संजीदा नसीहत और मनोरंजन भी -
देखते हैं कौन क्या लेता है ?


4 comments:

DR. ANWER JAMAL said...

आप भी कमाल कर रहे हैं और ग़ज़ब ढा रहे हैं बिना कुछ किए ही।
अपनी तरह के आप अद्भुत ब्लॉगर हैं।

Also see :
http://kanti.in/issues/2012/april2012/index_issue.asp

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
सूचनार्थ!
--
संविधान निर्माता बाबा सहिब भीमराव अम्बेदकर के जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ-
आपका-
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

सुनीता शानू said...

सही है ऎसी पोस्ट पर लोग पहले जाते हैं। वैसे ब्लॉगर तो ब्लॉगर है भाई क्या बड़ा क्या छोटा? हाँ उम्र के फ़ासले जरूर हैं छोटा-बड़ा बताने के लिये :)

Sushil Kumar Joshi said...

बड़े ब्लागर ही
तो करते हैं कमाल
जब उठाते हैं
ऎसे विषयों से रुमाल
रेटिंग बढा़ते है
ब्लोगरों के बीच
कभी कभी
फाईट भी करवाते हैं ।

लव जिहाद से लैंड जिहाद तक

 जिहाद से जुड़ी शब्दावली शायद कहीं खत्म हो ऐसा लगता नहीं है मुस्लिम विरोधी संगठन राजनीति में अपनी बढ़त के लालच में नए नए शब्द गढ़ते जा रहे ...