Saturday, February 18, 2012

आज का मुददा है पुरस्कार वितरण

इसका पता हमें ‘ब्लॉग की ख़बरें‘ से चला।
दरअसल यह कोई मुददा ही नहीं है लेकिन इसे मुददा बना दिया है मुददा बनाने वालों ने और जब मुददा बन ही गया है तो लोगों को रस भी आने लगा है इसकी चर्चा में।
कैसे कोई बरसों लिखता रहता है और उसे पुरस्कार में मिलते हैं अपने बीवी बच्चों के ताने और कैसे कोई दूसरों के लिखे पर लिखता है लेकिन वह शोहरत के साथ दाम भी कमा लेता है।
जब दुनिया में यही हो रहा है तो फिर ब्लॉगिंग में भी यही होगा। जिसका सौदा जहां पटेगा, वह वहीं सैट हो जाएगा।
जब तक जूते सिर पर नहीं पड़े थे तो 2 जी और 3 जी वालों के भी अभिनंदन धड़ल्ले से किए जा रहे थे।
ब्लॉगिंग में भी यह सब तो होना ही है।
आखि़र सब जगह इंसान ही तो हैं।

1 comment:

DR. ANWER JAMAL said...

Nice post.

Please see :
"पुरस्‍कार और सम्‍मान की परम्‍परा -Ajit Gupta"
http://blogkikhabren.blogspot.com/2012/02/ajit-gupta.html

लव जिहाद से लैंड जिहाद तक

 जिहाद से जुड़ी शब्दावली शायद कहीं खत्म हो ऐसा लगता नहीं है मुस्लिम विरोधी संगठन राजनीति में अपनी बढ़त के लालच में नए नए शब्द गढ़ते जा रहे ...