Thursday, February 2, 2012

सतयुग कैसे आएगा ? , पर एक बहस

इस्लाम की तरफ बढ़ते रुझान से और मुसलामानों की बढ़ती तादाद से 'सतयुग' का क्या सम्बन्ध है ?
हमारी पिछली पोस्ट पर इस मौज़ू पर एक अच्छी चर्चा हुई है . 
ईश्वर सत्य है और वह एक है. उसका आदेश सबसे ऊपर होना चाहिए , सबको धर्म यही बताता है.
लोगों ने जबसे यह भुलाया है तबसे कलियुग चल रहा है.
इसे ख़त्म करने के लिए भूली हुई बात को याद करना बहुत ज़रूरी है. 
मुसलमान वही भुला दी गयी बात याद दिलाते हैं , 
देखिये इस ब्लॉग की हमारी पिछली यादगार पोस्ट :

आगे बढ़कर सत्य को मानें और दूसरों के लिए एक मिसाल बनें जैसे कि पं. श्री दुर्गाशंकर सत्यार्थी जी महाराज

2 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत बढ़िया।

रविकर said...

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति आज charchamanch.blogspot.com par है |

लव जिहाद से लैंड जिहाद तक

 जिहाद से जुड़ी शब्दावली शायद कहीं खत्म हो ऐसा लगता नहीं है मुस्लिम विरोधी संगठन राजनीति में अपनी बढ़त के लालच में नए नए शब्द गढ़ते जा रहे ...