Skip to main content

गुलछर्रे मुबारक, कमेंट ऑप्शन बंद बिल्कुल भी नहीं है


कोई देश तीर्थ के लिए मशहूर है दुनिया में और कोई दुनिया की दौलत के लिए.
दौलत के भूखे तीर्थ का देश छोड़कर चले जाते हैं ऐसे देश में जहां वे अपनी आस्थाओं पर प्रहार होते चुपचाप देखते रहते हैं.
वहां गाय काटी जाती है और वे चुप रहते हैं सिर्फ़ माल की ख़ातिर.
वहां बैठकर वे गऊ रक्षा की बातें करते हैं अपने ब्लाग पर केवल उस देश के लोगों के लिए जहां से भागे हुए हैं.
यह है इनकी नैतिकता.
ये गंगा को छोड़कर गए , ये हिमालय को छोड़कर गए, ये अपनी बूढ़ी मां को छोड़कर गए, ये अपने रिश्ते नातों को छोड़कर गए, ये सब कुछ छोड़कर गए सिर्फ़ एक माल की ख़ातिर.
ये अपना ज़मीर कुचल कर विदेश में रहते हैं और फिर भी नैतिकता का उपदेश पिलाते हैं अपने देश के लोगों को.
तुम माल की बातें करो, नैतिकता की बातें हम कर लेंगे.
तुम्हें सीखना हो धर्म और नैतिकता तो हमसे सीखो.
या फिर ख़ामोश ही रहो.
जिस मैदान में तुम्हें कोई तजर्बा ही नहीं है.
उसमें बात क्यों करते हो ?
क्यों विदेशियों के साथ प्यार से रहते हो ?
और देश में हिंदू मुस्लिमों के दरम्यान नफ़रत की आग भड़काते हो ?

जो तीर्थ, गंगा और हिमालय ही छोड़ गया माल के लिए,
उसे हक़ भी क्या है किसी को उपदेश देने का ?
कुछ त्याग किया होता तो बोलते हुए अच्छे भी लगते.

गुलछर्रे मुबारक हों आपको।
उड़ाओं ख़ूब गुलछर्रे ...

Comments

मुबारक हों आपको
उड़ाओं ख़ूब गुलछर्रे ...

kya baat hai joradaar vaah..
DR. ANWER JAMAL said…
ज़रूरतें, मजबूरियां और तक़दीर किसे कब कहां ले जाएं, कौन जान सकता है ?
जिसके मुक़द्दर की रोज़ी जहां उतरी है, उसे वहां जाना ही पड़ेगा।
हमारे जीवन पर हमारा नियंत्रण ही कब है ?

see entire article :
http://vedquran.blogspot.com/2011/11/qurbani.html
Shah Nawaz said…
Bilkul wahiyaat, betuki aur bekar post hai...
Dr. Ayaz Ahmad said…
@ महेंद्र मिश्र जी ! आपकी तारीफ़ से हमारा दिल बढ़ा।
इसके लिए आपका शुक्रिया !

@ अनवर जमाल साहब ! मजबूरियां , ज़रूरतें और तक़दीर इंसान को कहीं भी ले जाती हैं , यह सच है मगर यह भी सच है कि इंसान अपनी ख़ुदग़र्ज़ी और लालच में भी दर ब दर की ठोकरें खाता फिरता है।

@ शाहनवाज़ जी ! आपके कमेंट से पता चला कि हमारी पोस्ट ठीक बराबर के वज़्न की बन गई है। आपकी तारीफ़ का यह अंदाज़ भी हमें पसंद आया।
दुनिया क्या समझेगी और आप कह क्या गए ?
Dr. Ayaz Ahmad said…
This comment has been removed by the author.
Shah Nawaz said…
अयाज़ भाई, अगर आप मेरे एतराज़ और कटु शब्दों को भी तारीफ समझें तो क्या कहा जा सकता है??? इतना ही कहूँगा कि यह पोस्ट बहुत ही हलके स्तर की है...
Dr. Ayaz Ahmad said…
@ शाहनवाज़ भाई ! आपने किसी भी पोस्ट पर कटु शब्द आज तक न कहे लेकिन यहां आपने कहे तो कोई ख़ास ताल्लुक़ ही तो समझते होंगे न आप ?
जहां ऐसा ताल्लुक़ हो,
वहां क्या हम आपकी बात को न समझेंगे कि आप क्या कहना चाह रहे हैं और किसे दिखाना चाह रहे हैं ?

Popular posts from this blog

बवासीर

दोस्तों बवासीर ऐसी बीमारी है जो किसी भी आदमी का रात दिन का चैन सुकून छीन लेता है.....देसी दवाइयों से इसका कामयाब इलाज संभव है यदि परहेज़ ध्यान रखा जाए
............... पाइल्स (बवासीर, अर्श): वात, पित, कफ़ ये तीनो दोष त्वचा, मांस, मेदा को दूषित करके गुदा के अंदर और बाहरी स्थानों मैं मांस के अंकुर (मस्से/फफोले) तैयार करते हैं. इन्ही मांस के अंकुरों को बवासीर या अर्श कहते हैं ! ये मांस के अंकुर गुदामार्ग का अवरोध करते हैं और मलत्याग के समय शत्रु की भांति पीड़ा करते हैं ! इसलिए इनको अर्श भी कहा जाता है. ( चरक) बवासीर का सबसे उत्तम उपचार आयुर्वेद के द्वारा ही किया जा सकता है ! आयुर्वेदिक उपचार एक बहुत ही सुलझा और बिना साइड इफ़ेक्ट का उपचार है ! पाइल्स को पूरी तरह से आयुर्वेदिक तरीके से ही ठीक किया जा सकता है| बाहरी लक्षणों के कारण भेद: बवासीर 2 प्रकार (kind of piles) की होती हैं। एक भीतरी(खूनी) बवासीर तथा दूसरी (बादी) बाहरी बवासीर। भीतरी / ख़ूनी बवासीर / आन्तरिक / रक्‍त स्रावी अर्श / रक्तार्श ख़ूनी बवासीर में मलाशय की आकुंचक पेशी के अन्दर अर्श होता है तो वह म्युकस मेम्ब्रेन (Mucous Membran…

क्या आप सूअर की चर्बी खा रहे हैं ?

बी. एस. पाबला  जी का लेख देख कर मन में यही विचार आया, क्योंकि हम तो लेज़ खाते नहीं हैं और हो सकता है कि दूसरे प्रोडक्ट्स में E 631 हम भी खा रहे हों जो कि हक़ीक़त में सूअर की चर्बी का कोड है . यूरोप और अमेरिका में जा बसे हिन्दू मुसलमान कहाँ तक बच पाते होंगे सूअर की चर्बी से . मुस्लिम देशों में इसे गाय या भेड़ की चर्बी कह प्रचारित किया गया लेकिन इसके हलाल न होने से असंतोष थमा नहीं और इसे प्रतिबंधित कर दिया गया। बहुराष्ट्रीय कंपनियों की नींदउड़गई। आखिर उनका 75 प्रतिशत कमाई मारी जा रही थी इन बातों से। हार कर एक राह निकाली गई। अबगुप्तसंकेतोवालीभाषा का उपयोग करने की सोची गई जिसे केवल संबंधित विभाग ही जानें कि यह क्या है! आम उपभोक्ता अनजान रह सब हजम करता रहे। तब जनमहुआ E कोडका
तब से यह E631 पदार्थकईचीजोंमेंउपयोग किया जाने लगा जिसमे मुख्य हैं टूथपेस्ट, शेविंग क्रीम, च्युंग गम, चॉकलेट, मिठाई, बिस्कुट, कोर्न फ्लैक्स, टॉफी, डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ आदि। सूची में और भी नाम हो सकते हैं। हाँ, कुछ मल्टी-विटामिनकी गोलियों में भी यह पदार्थ होता है। शिशुयों, किशोरों सहित अस्थमा और गठिया के रोगियों को

शुक्राणुहीनता NIL SPERM

शुक्राणु की कमी के कारण और निवारण आदमी दिखनें में तन्दरुस्त हो ताकतवर हो लेकिन उसके शुक्राणु अगर दुर्बल हैं तो वो गर्भ धारण नहीं करवा सकते - तो जानें वीर्य में स्वस्थ शुक्राणुओं को बढ़ाने के चंद तरीके - पुरुष के वीर्य में शुक्राणु होते हैं ये शुक्राणु स्त्री के डिम्बाणु को निषेचित कर गर्भ धारण के लिये जिम्मेदार होते हैं - वीर्य में इन शुक्राणुओं की तादाद कम होने को शुक्राणु अल्पता की स्थिति कहा जाता है। शुक्राणु की कमी को ओलिगोस्पर्मिया कहते हैं लेकिन अगर वीर्य में शुक्राणुओं की मौजूदगी ही नहीं है तो इसे एज़ूस्पर्मिया संज्ञा दी जाती है ऐसे पुरुष संतान पैदा करने योग्य नहीं होते हैं। वीर्य में स्वस्थ शुक्राणुओं की तादाद कम होने के निम्न कारण हो सकते हैं-- * वीर्य का दूषित होना * अंडकोष पर गरमी के कारण वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या कम हो जाती है। ज्यादा तंग अन्डर वियर पहिनने,गरम पानी से स्नान करने, बहुत देर तक गरम पानी के टब में बैठने और मोटापा होने से शुक्राणु अल्पता हो जाती है। * हस्तमैथुन से बार बार वीर्य स्खलित करना * थौडी अवधि में कई बार स्त्री समागम करना * अधिक शारीरिक और मानसिक …