Monday, September 26, 2011

हिंदी ब्लॉग जगत की यह रीत अजीब है

ब्लॉगर्स मीट वीकली (10) Stop Complaining
के बारे में हमारी राय -
प्रेरणा जी की और अनवर भाई की मेहनत रंग ला रही है।

यह पोस्ट बहुत पढ़ी गई है, इस बात का पता चल रहा है HBFI के लोकप्रिय कॉलम में दिखाई देने से। इसके बावजूद इस पोस्ट पर इतने कमेंट्‌स नहीं आ रहे हैं।
इसका मतलब यह है कि लोग पढने तो आते हैं लेकिन किसी वजह से वे कमेंट से जान बचाकर निकल जाते हैं।कहीं झगडा हो तो ये नसीहतें करने ज रूर पहुंच जाएंगे लेकिन कहीं लोग प्यार से मिल जुल रहे हों तो इन्हें दो शब्द कहने की तौफीक नहीं होती।

हिंदी ब्लॉग जगत की यह रीत अजीब है।

No comments:

लव जिहाद से लैंड जिहाद तक

 जिहाद से जुड़ी शब्दावली शायद कहीं खत्म हो ऐसा लगता नहीं है मुस्लिम विरोधी संगठन राजनीति में अपनी बढ़त के लालच में नए नए शब्द गढ़ते जा रहे ...