Monday, September 19, 2011

ब्लॉगर्स मीट वीकली (9) का यह वीडियो देखकर तो दिल छलनी हो गया


रहम ए मादर में बच्चियों को मारने वाले मां बाप और डाक्टर को जितना बुरा कहा जाए, कम है.
आपकी पोस्ट का वीडियो देखकर यही लगा.
शास्त्र के बारे में भी आपने ख़ूब बताया.
आदमी जब किसी वेबसाइट का पता टाइप करता है तो वही टाइप करता है जो कि दिया गया है लेकिन दीन-धर्म के नाम पर उसे ज्ञानी गुरू जो बताते हैं, उसे करने के बजाय अपनी पसंद से जो चाहे वह करता रहता है.

ब्लॉगर्स मीट वीकली (9) Against Female Feticide में 

यही मुद्दा उठाया गया है।
इन मुद्दों को हरेक मंच से उठाया जाना चाहिए.

1 comment:

DR. ANWER JAMAL said...

हमारा प्रयास आपको पसंद आया , अच्छा लगा ।
शुक्रिया ।

लव जिहाद से लैंड जिहाद तक

 जिहाद से जुड़ी शब्दावली शायद कहीं खत्म हो ऐसा लगता नहीं है मुस्लिम विरोधी संगठन राजनीति में अपनी बढ़त के लालच में नए नए शब्द गढ़ते जा रहे ...