Skip to main content

क्या आप सूअर की चर्बी खा रहे हैं ?

बी. एस. पाबला  जी का लेख देख कर मन में यही विचार आया, क्योंकि हम तो लेज़ खाते नहीं हैं और हो सकता है कि दूसरे प्रोडक्ट्स में E 631 हम भी खा रहे हों जो कि हक़ीक़त में सूअर की चर्बी का कोड है .
यूरोप और अमेरिका में जा बसे हिन्दू मुसलमान कहाँ तक बच पाते होंगे सूअर की चर्बी से .
मुस्लिम देशों में इसे गाय या भेड़ की चर्बी कह प्रचारित किया गया लेकिन इसके हलाल न होने से असंतोष थमा नहीं और इसे प्रतिबंधित कर दिया गया। बहुराष्ट्रीय कंपनियों की नींद उड़ गई। आखिर उनका 75 प्रतिशत कमाई मारी जा रही थी इन बातों से। हार कर एक राह निकाली गई। अब गुप्त संकेतो वाली भाषा का उपयोग करने की सोची गई जिसे केवल संबंधित विभाग ही जानें कि यह क्या है! आम उपभोक्ता अनजान रह सब हजम करता रहे। तब जनम हुआ E कोड का
तब से यह E631 पदार्थ कई चीजों में उपयोग किया जाने लगा जिसमे मुख्य हैं टूथपेस्ट, शेविंग क्रीम, च्युंग गम, चॉकलेट, मिठाई, बिस्कुट, कोर्न फ्लैक्स, टॉफी, डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ आदि। सूची में और भी नाम हो सकते हैं। हाँ, कुछ मल्टी-विटामिन की गोलियों में भी यह पदार्थ होता है। शिशुयों, किशोरों सहित अस्थमा और गठिया के रोगियों को इस E631 पदार्थ मिश्रित सामग्री को उपयोग नहीं करने की सलाह है लेकिन कम्पनियाँ कहती हैं कि इसकी कम मात्रा होने से कुछ नहीं होता।
पिछले वर्ष खुशदीप सहगल जी ने एक पोस्ट में बताया था कि कुरकुरे में प्लास्टिक होने की खबर है चाहें तो एक दो टुकड़ों को जला कर देख लें। मैंने वैसा किया और पिघलते टपकते कुरकुरे को देख हैरान हो गया। अब लग रहा कि कहीं वह चर्बी का प्रभाव तो नहीं था!?
अब बताया तो यही जा रहा है कि जहां भी किसी पदार्थ पर लिखा दिखे
E100, E110, E120, E 140, E141, E153, E210, E213, E214, E216, E234, E252,E270, E280, E325, E326, E327, E334, E335, E336, E337, E422, E430, E431, E432, E433, E434, E435, E436, E440, E470, E471, E472, E473, E474, E475,E476, E477, E478, E481, E482, E483, E491, E492, E493, E494, E495, E542,E570, E572, E631, E635, E904
समझ लीजिए कि उसमे सूअर की चर्बी है।
और कुछ जानना हो कि किस कोड वाल़े पदार्थ का उपयोग करने से किसे बचना चाहिए तो यह सूची देख लें
कैसी रही?
पूरा मज़मून यहाँ है - http://www.haaram.com/CompleteArticle.aspx?aid=312929&ln=hi

Comments

Shah Nawaz said…
This is not true, right now I'm traveling. I'll let you know, whenever reach... Abhi ke liye keval yehi keh sakta hoon ki yeh 'Adha Sach' hai........
alok jain said…
kisi ke manne ya na manne se din ka raat aur jhooth ka sach nahi ho jata.
sach har haal me 100% hi hota hai.fifty-fifty nahi dear.
ashok sundriyal said…
Videshi cheejo ka bahiskaar shuru kar do mitro
kya ye ek dam satye hai
kya ye ek dam satye hai
ADITYA JAIN said…
I think. This is right also nd wrong also becoz humne lays ko banta hu nahi dekaha ki company kya product use karti ha.
SHARIK KHAN said…
really bro but i can t bleive thts
shravan kumar said…
Abi tak trtrav hi kar rahe ho kya?
Not true bal kar sachchayi chupa rahe ho. Nahi to do proof. Ab ye sab band.
"JAB JAGO TABI SAVERA"
annoo said…
Sab log in chijo ko khana band kar do or sabhi ko band karne ke liye prarit kariye or bharat ka paisa bhi bharat main hi rokiye jai hind
Dinesh Maan said…
Krna kya hai esy khanna chod dete hai aur kya
If is that right that these product made of pork so it must b ban in India it's up to government of India that what they do for it
If all these things r made by pork so it must b ban in India and give the information to all ppl it's totally up to government of India y they not give information to ppl of India
Abhishek Saxena said…
maine kahaya tha bhut bura tha...
GULSHAN KOSARE said…
YE SABHI CHIJ KHANE KE SAMAN ME IS TARAH FIAL CHUKA HAI JISE HAM CHAH KAR BHI CHANGE NAHI KAR SAKTE
girish tirthkar said…
AGR ye sach Hai to fir veg products ke packet PR green dot ka symbol kya darshata Hai..... Yadi sach me lays ya pizza me suvar ya gai ki charbi hoti Hai aur .... Uska code packet PR hota Hai to beshak us packet PR green nahi red symbol hona chahiye..... Ye Sab jankari sabuto se sacchi nahi lagti.....
girish tirthkar said…
AGR ye sach Hai to fir veg products ke packet PR green dot ka symbol kya darshata Hai..... Yadi sach me lays ya pizza me suvar ya gai ki charbi hoti Hai aur .... Uska code packet PR hota Hai to beshak us packet PR green nahi red symbol hona chahiye..... Ye Sab jankari sabuto se sacchi nahi lagti.....
girish tirthkar said…
AGR ye sach Hai to fir veg products ke packet PR green dot ka symbol kya darshata Hai..... Yadi sach me lays ya pizza me suvar ya gai ki charbi hoti Hai aur .... Uska code packet PR hota Hai to beshak us packet PR green nahi red symbol hona chahiye..... Ye Sab jankari sabuto se sacchi nahi lagti.....
Vrushali Kamade said…
This is cheating with vegetarian people.
This right try to avoid taste nd protect our Hindu Dharam
Husen Ayan said…
bhai log sif baate hi kroge ya action bhi loge.....................

Popular posts from this blog

बवासीर

दोस्तों बवासीर ऐसी बीमारी है जो किसी भी आदमी का रात दिन का चैन सुकून छीन लेता है.....देसी दवाइयों से इसका कामयाब इलाज संभव है यदि परहेज़ ध्यान रखा जाए
............... पाइल्स (बवासीर, अर्श): वात, पित, कफ़ ये तीनो दोष त्वचा, मांस, मेदा को दूषित करके गुदा के अंदर और बाहरी स्थानों मैं मांस के अंकुर (मस्से/फफोले) तैयार करते हैं. इन्ही मांस के अंकुरों को बवासीर या अर्श कहते हैं ! ये मांस के अंकुर गुदामार्ग का अवरोध करते हैं और मलत्याग के समय शत्रु की भांति पीड़ा करते हैं ! इसलिए इनको अर्श भी कहा जाता है. ( चरक) बवासीर का सबसे उत्तम उपचार आयुर्वेद के द्वारा ही किया जा सकता है ! आयुर्वेदिक उपचार एक बहुत ही सुलझा और बिना साइड इफ़ेक्ट का उपचार है ! पाइल्स को पूरी तरह से आयुर्वेदिक तरीके से ही ठीक किया जा सकता है| बाहरी लक्षणों के कारण भेद: बवासीर 2 प्रकार (kind of piles) की होती हैं। एक भीतरी(खूनी) बवासीर तथा दूसरी (बादी) बाहरी बवासीर। भीतरी / ख़ूनी बवासीर / आन्तरिक / रक्‍त स्रावी अर्श / रक्तार्श ख़ूनी बवासीर में मलाशय की आकुंचक पेशी के अन्दर अर्श होता है तो वह म्युकस मेम्ब्रेन (Mucous Membran…

शुक्राणुहीनता NIL SPERM

शुक्राणु की कमी के कारण और निवारण आदमी दिखनें में तन्दरुस्त हो ताकतवर हो लेकिन उसके शुक्राणु अगर दुर्बल हैं तो वो गर्भ धारण नहीं करवा सकते - तो जानें वीर्य में स्वस्थ शुक्राणुओं को बढ़ाने के चंद तरीके - पुरुष के वीर्य में शुक्राणु होते हैं ये शुक्राणु स्त्री के डिम्बाणु को निषेचित कर गर्भ धारण के लिये जिम्मेदार होते हैं - वीर्य में इन शुक्राणुओं की तादाद कम होने को शुक्राणु अल्पता की स्थिति कहा जाता है। शुक्राणु की कमी को ओलिगोस्पर्मिया कहते हैं लेकिन अगर वीर्य में शुक्राणुओं की मौजूदगी ही नहीं है तो इसे एज़ूस्पर्मिया संज्ञा दी जाती है ऐसे पुरुष संतान पैदा करने योग्य नहीं होते हैं। वीर्य में स्वस्थ शुक्राणुओं की तादाद कम होने के निम्न कारण हो सकते हैं-- * वीर्य का दूषित होना * अंडकोष पर गरमी के कारण वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या कम हो जाती है। ज्यादा तंग अन्डर वियर पहिनने,गरम पानी से स्नान करने, बहुत देर तक गरम पानी के टब में बैठने और मोटापा होने से शुक्राणु अल्पता हो जाती है। * हस्तमैथुन से बार बार वीर्य स्खलित करना * थौडी अवधि में कई बार स्त्री समागम करना * अधिक शारीरिक और मानसिक …