Tuesday, August 23, 2011

जो लोग विवाहित होते हैं उनकी औसत उम्र भी ज्यादा होती है.


खुशी का खजाना है दाम्पत्य जीवन

अध्ययन का केंद्र बिंदु यही है कि वैवाहिक संबंध स्त्री और पुरूष दोनों के लिए मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े कई सारे लाभ लाता है. और जब ये संबंध किसी वजह से नहीं रहता तो विपरीत असर दिखाने लगता है. शोध केवल शादीशुदा लोगों पर ही नहीं किया गया, बल्कि उन लोगों की मानसिक स्थिति पर भी किया गया जिनकी शादी नहीं हुई, जो कभी शादी नहीं करना चाहते या जिनकी शादी टूट चुकी है.

दाम्पत्य जीवन का अपना एक वैज्ञानिक पहलू होता है. विज्ञान के लिहाज से दाम्पत्य जीवन करामाती होता है. वैवाहिक जीवन लोगों की चिंताएं और परेशानियां दूर कर देता है, लेकिन तब जब दाम्पत्य जीवन जीया जाए.

एक अध्ययन में ये बात सामने आई है.वैवाहिक जीवन तनाव, अवसाद और चिंता से मुक्तिदिलाता है. और अगर किसी वजह से शादी टूट जाए, तलाक से, अलग होने से या एक साथी की मृत्यु से तो शरीर की सकारात्मक ऊर्जाएं बिखरने लगती हैं.

किसी को हमेशा जीवन में कोई ऐसा व्यक्तिचाहिए होता है- स्त्री को पुरुष, पुरुष को स्त्री. जिससे अपने मन की बात खुल कर कहा जा सके. अगर मन में निरंतर कोई चिंता, कोई अवसाद घिरा रहेगा तो उसका शरीर पर लगातार बुरा असर पड़ता है.

यह अगर किसी से बांट लिया जाए तो तय है की जो कष्ट है जो न सिर्फ मानसिक बल्कि शारीरिक भी है, क्योंकि ये पूरी एक जैव रासायनिक प्रक्रिया है जिसका शरीर पर बुरा असर पड़ता है. इस शोध में यह भी देखा गया है की शादीशुदा जिंदगी में अवसाद का असर औरत और मर्द पर अलग-अलग तरह से होता है.

यानी पुरूष, स्त्रियों से कम अवसादग्रस्त होते हैं. माना जाता है कि औरतों को कुछ मनोविकार अधिक होते हैं तो पुरूषों को भी कुछ मनोविकार अधिक होते हैं.

इसके जैव रासायनिक कारण हैं. जो हमें अच्छी अनुभूति देते हैं जिन्दगी में. उसमें उतार-चढ़ाव अधिक हों तो वह स्त्री हो या पुरुष दोनों में ही उसका असर दिखता है.

स्त्रियों में यह ज्यादातर होता है क्योंकि उनकी प्रजनन क्षमता में जो उतार-चढ़ाव उनके सेक्स हारमोंस में होते हैं, वे शरीर में परिलक्षित होते हैं.

शादीशुदा जिंदगी औरतों में ‘सब्सटेंस यूज डिसऑर्डर’ के खतरे को भी कम कर देती है. यह वो समस्या है जब कोई व्यक्तिअकेलेपन से निजात पाने के लिए नशे जैसी चीजों का सहारा लेता है.

वैवाहिक संबंध स्त्री और पुरूष दोनों के लिए मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े कई सारे लाभ लाता है. और जब ये संबंध किसी वजह से नहीं रहता तो विपरीत असर दिखाने लगता है.

परिणाम यही निकलता है कि शादीशुदा लोग जीवन में यादा खुशहाल रहतें हैं. पाया गया है कि जो लोग विवाहित होते हैं उनकी औसत उम्र भी ज्यादा होती है.

मानसिक स्वास्थ्य के लिहाज से विवाह पुरूषों के लिए स्त्रियों के बनिस्बत  ज्यादा फायदेमंद है. स्कॉट के मुताबिक इसका फायदा दोतरफा है. वैवाहिक जीवन का प्रेम एक ऐसी दवा है जो लगातार आपके खून और और आपके दिलो-दिमाग में सक्रिय रहती है. रिश्ते की मजबूती इस दवा का खजाना भरती रहती है.
असल माखज़ - 
http://manishmalhotra.jagranjunction.com/2011/04/23/%E0%A4%B6%E0%A4%BE%E0%A4%A6%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A5%87-%E0%A4%AC%E0%A4%BE%E0%A4%A6-%E0%A4%AC%E0%A4%A8%E0%A4%A4%E0%A5%80-%E0%A4%B9%E0%A5%88-%E0%A4%B8%E0%A5%87%E0%A4%B9%E0%A4%A4-jagran-junction-forum/

No comments:

गर्भाशय की सूजन Uterus Swelling

अक्सर लोगों को पेट में दर्द की समस्या होती है। कई बार ये दर्द लाइफस्टाइल में हुए बदलाव, मौसम में बदलाव और गलत-खान-पान के चलते होता है। लेक...