Thursday, August 18, 2011

आडवाणी जी को बुढ़ापे में क्या ज़रूरत थी किसी विदेशी औरत के कंबल में घुसने की ?


अब हो गई न जेल !
नारी चाहे देसी हो या विदशी, हरेक की एक इज़्ज़त होती है और भारतीय लोग नारी का सम्मान सबसे ज़्यादा करते हैं। रमेश आडवाणी ने भारत की परंपरा भुला दी और पहुंच गए जेल , देखिए

अश्लील खेल ले गया जेल, रमेश आडवाणी को Under The Blanket


1 comment:

DR. ANWER JAMAL said...

Nice post .

बड़े ब्लॉगर की जेब मोटी होती है।
कभी तो ऐसा होता है कि जेब पहले मोटी होती है और इसी के बल पर वह बड़ा बन जाता है और कभी ऐसा भी होगा कि ब्लॉग पर आने वाले पाठक ब्लॉगर की जेब मोटी कर देंगे। अपने ताज़ा लेख में हमने इस ओर भी संकेत किया है, देखिए
डिज़ायनर ब्लॉगिंग के ज़रिये अपने ब्लॉग को सुपर हिट बनाईये Hindi Blogging Guide (26)
यह एक यादगार लेख है जिसे भुलाना आसान नहीं है।

लव जिहाद से लैंड जिहाद तक

 जिहाद से जुड़ी शब्दावली शायद कहीं खत्म हो ऐसा लगता नहीं है मुस्लिम विरोधी संगठन राजनीति में अपनी बढ़त के लालच में नए नए शब्द गढ़ते जा रहे ...