Tuesday, August 9, 2011

दिव्या जी का शुक्रिया सही सलाह के लिए


ब्लॉगर्स मीट वीकली 3  के बारे में हमें कुछ पसोपेश था . हमने सलाह मांगी . ज़्यादातर ने तो सुनी और अनसुनी कर दी लेकिन दिव्या जी और सुनील कुमार जी ने ध्यान दिया और सही सलाह दी . हमने उनकी सलाह पर अमल किया और सहरी के वक्त यानि लगभग 4 बजे रात को पहला कमेंट देकर अपनी हाज़िरी भी दर्ज करा दी है. डा. अनवर जमाल साहब ने बताया कि लगभग 500 पेज व्यूज़ हो गए हैं और यह पोस्ट ब्लॉग की लोकप्रिय पोस्ट बन गई है पहले दिन ही .
सदर साहिब ने , जनाब रूपचंद शास्त्री साहिब ने भी अपने सदारती ख़ुत्बे में अच्छी बातें कही हैं .

दिव्या जी की केवल सलाह ही उम्दा नहीं थी बल्कि उनके ख़ुद आने से भी हिंदी ब्लॉग जगत में हैरानी महसूस की जा रही है और ऐसा वह अक्सर करती हैं . उनका आना भी एक मिसाल बन गया है . जहां इतने खुले दिल के लोग मौजूद हों वहां से जुड़े रहना सचमुच एक ख़ुशी की बात है .

थैंक्स दिव्या जी ...

अच्छी राह बताने के लिए
मंच पर साथ आने के लिए

'ब्लॉगर्स मीट वीकली 3' वाले दिन पेज व्यूज़ 496

-------------------
इसके टाइम फौरमैट में कुछ कमी है शायद इसे प्रकाशित किया तो यह कल ८ तारीख में  ६:१८ PM पर प्रकाशित हो गयी है . अब इसे पुन: प्रकाशित करता हूँ .

2 comments:

DR. ANWER JAMAL said...

Nice post .

क्या आप जानते हैं कि कोई आया या नहीं आया लेकिन ब्लॉगर्स मीट वीकली का आयोजन बेहद सफल रहा ?

Aap to jante hain .

ZEAL said...

डॉ अहमद ,
ख़ुशी हुयी यह जानकार की आपके मन की दुविधा समाप्त हुयी और आपने उचित निर्णय लिया है ! मेरी शुभकामनायें आपके साथ हैं ! मुझे पूरा विश्वास है कि आपके प्रयास सार्थक एवं सफल होंगे !

लव जिहाद से लैंड जिहाद तक

 जिहाद से जुड़ी शब्दावली शायद कहीं खत्म हो ऐसा लगता नहीं है मुस्लिम विरोधी संगठन राजनीति में अपनी बढ़त के लालच में नए नए शब्द गढ़ते जा रहे ...